Humans of Mumbai

Humans of Mumbai

The opportunity for happiness is everyday, everyday is an opportunity, I am happy, in whatever I am. Because I work I am happy and whatever is saved is because of my efforts and hard work. I am not robbing. I will not grow big by selling these peanuts. This is it, by Gods grace. No regrets. If there were any regrets, I would have been born in a rich mans home not amidst poor family. I don’t even wish that I would own a car or this or that…after death, the family and villagers remove even the nicker, in our religion the corpse is wrapped in just a white cloth, nothing else. No undergarments.

ख़ुशी का तो रोज़ मौका है, ख़ुशी का मौका रोज़ ही है|
हम खुश हैं, हम जिस हाल में है खुश है, इसलिए खुश है कि मेहनत करता हूँ और जो बचता है मेहनत से बचता है, चोरी तो नहीं कर रहा हूँ और में सींग चने बेचकर बड़ा बन भी नहीं सकता|
जो है यही है, सब ईशवर कि देन है, मनं में कोई पछतावा नहीं है, अगर पछतावा होता तो बड़े घर पैदा किये होते गरीब के घर नहीं किये होते|
और मेरे को ये भी शौक नहीं कि मेरे पास गाडी हो जाए वो हो जाए, मरने के बाद चढ़ी उतर लेते है, हम लोगों में कपडा भी नहीं, सिरफ सफ़ेद और मेरे को ये भी शौक नहीं कि मेरे पास गाडी हो जाए वो हो जाए, मरने के बाद चढ़ी उतर लेते है घर वाले और गाँव वाले, हम लोगों में कपडा भी नहीं, सिरफ सफ़ेद कपडा, अंदर का सब निकाल लेते है|

http://www.humansofmumbai.in

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s