Humans of Mumbai

Humans of Mumbai

Where r u from?

Sholapur

You do this alone?

The entire family does it.

Around how many lashes do you hit in a day?
150 to 200 lashes ..

It doesnt pain?

It pains

You make a living by lashing yourself. It wounds, bleeds too, just like that

If there’s no sound, then there’s a wound … if theres a sound, theres no wound

If theres no sound, then it will make a scar and a wound …

Yes both

Then in the 200 lashes, how many are without sound?
I have never counted, but around 10-12

कहाँ का है?

शोलापुर

तू अकेला करता है?

पूरा परिवार यही करता है|

अंदाज़न कितने कोड़े मारता है दिन भर में?

१५० से २०० कोड़े मारता हूँ अपनी पीठ पर|

लगता नहीं है तुझे?

लगता है

कोड़े मार कर ज़िन्दगी गुज़ार रहा है? ज़ख़्म होता है?

आवाज़ नहीं आएगा तो निशान आता है .. आवाज़ आएगा तो नहीं आता

आवाज़ नहीं आएगा तो निशान भी आएगा और ज़ख़्म भी? यही कहना चाहता है?

हाँ दोनो

तो २०० कोड़े में कितने ऐसे है कि जिसमे आवाज़ नहीं आता है?

गिनती तो नहीं किया मगर १० से १२ ..

http://www.humansofmumbai.in

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s